× Subscribe! to our YouTube channel

दान कितने प्रकार के होते? किस दान का क्या फल मिलता हैं?

किस दान का क्या फल मिलता हैं?
दान के चार प्रकार होते है। अगर सही जगह दान नहीं किया जाये, तो उसका फल नर्क भी हो सकता है। दान मनुष्य को नर्क, मृत्युलोक, स्वर्ग और भगवान् की कृपा प्रदान करा सकता है।

दान चार प्रकार के होते है।

आप संछेप में दान के दो प्रकार भी कह सकते है, एक तो माया के निमित किया गया दान और दूसरा भगवान् के निमित किया गया दान। लेकिन विसरतार पूर्वक दान के चार प्रकार है। क्योंकि एक तो माया है जिसके ३ गुण है और एक भगवान् है। दान के प्रकार हैं -

१. सात्विक
२. राजस
३. तामस
४. हरि (भगवान्) और हरिजन (संत, महात्मा, महापुरुष, भक्ति जिन्होंने भगवान् के दर्शन कर लिया हो जैसे तुलसीदास, सूरदास, मीरा, तुकाराम इत्यादि)
१. सात्विक : - अगर सात्विक व्यक्ति को दान करोगे, तो स्वर्ग मिलेगा।
२. राजस :- अगर राजसी व्यक्ति को दान करोगे तो राजसी फल मिलेगा।
३. तामस :- अगर तामसी व्यक्ति को दान करोगे तो नर्क मिलेगा। कयोंकि उस व्यक्ति ने उस पैसे का दुरुपयोग किया तो आप भी उस अपराध में भागीदारी हुए।
यह तीनों दान नश्वर है।
४. हरि और हरिजन :- अगर भगवान् के निमित्त दान करोगें तो भगवत कृपा मिलेगी, भगवान् की वस्तु मिलेगीं। यानि दिव्य आनंद मिलेगा। दान के ही फल से हरिश्चन्द्र महापुरुष हो गए और गोलोक गए। ऐसे ही बलि भी है। इन्होने कोई तपस्या नहीं की केवल दान के बल से भगवत कृपा प्राप्त की।
तो भगवान् के निमित दान किया दान सर्वोच्च है। इसलिए जहाँ तक हो सके भगवान् के निमित ही दान करना चाहिए। भल्ले ही हम एक रुपया ही दान करे।

You Might Also Like

भगवान राम का जन्म कब और किस युग में हुआ? - वैदिक व वैज्ञानिक प्रमाण

सबसे बड़े भगवान कौन है, राम कृष्ण शंकर या विष्णु?

माया क्या है? माया की परिभाषा और उसके प्रकार?

धर्म क्या है? धर्म के प्रकार? परधर्म व अपरधर्म क्या है?

देवी-देवता और भगवान में क्या अंतर है?

गुरु कौन है, अथवा गुरु क्या है?

भक्त प्रह्लाद कौन थे? इनके जन्म और जीवन की कथा।

गुरु मंत्र अथवा दीक्षा क्या होती है?