Featured post

कैसे किया आदि शंकराचार्य ने संन्यास ग्रहण?

Image
जब आदि शंकराचार्य तीन ही वर्ष के थे तब इनके पिता का देहांत हो गया। शंकराचार्य बड़े ही मेधावी तथा प्रतिभाशाली थे। छह वर्ष की अवस्था में ही ये प्रकांड पंडित हो गए थे और आठ वर्ष की अवस्था में इन्होंने संन्यास ग्रहण किया था। शंकराचार्य के संन्यास ग्रहण करने के समय की कथा बड़ी विचित्र है। कहते हैं, माता एकमात्र पुत्र को संन्यासी बनने की आज्ञा नहीं देती थीं। एक दिन जब शंकर अपनी माता के साथ किसी आत्मीय के यहाँ से लौट रहे थे, तब नदी, पार करने के लिए वे उसमें घुसे। गले भर पानी में पहुँकर इन्होंने माता को संन्यास ग्रहण करने की आज्ञा न देने पर डूब मरने की धमकी दी। इससे भयभीत होकर माता ने तुरंत इन्हें संन्यासी होने की आज्ञा प्रदान की और इन्होंने गोविन्द स्वामी से संन्यास ग्रहण किया। पहले ये कुछ दिनों तक काशी में रहे, और तब इन्होंने विजिलबिंदु के तालवन में मण्डन मिश्र को सपत्नीक शास्त्रार्थ में परास्त किया। इन्होंने समस्त भारतवर्ष में भ्रमण करके बौद्ध धर्म को मिथ्या प्रमाणित किया तथा वैदिक धर्म को पुनरुज्जीवित किया। अवश्य पढ़े वेद कहता है - कर्म धर्म का पालन करना बेकार है। और क्या सब कुछ भगवान करत…

नवरात्रि मनाने का उद्देश्य क्या है?

Image
संस्कृत व्याकरण के अनुसार नवरात्रि कहना त्रुटिपूर्ण हैं। 'नवरात्र' कहना चाहिए। सुबालोपनिषत् २.१ "आत्मानं द्विधाकरोदर्धेन स्त्री अर्धेन पुरुषो" भगवान को आधा कर दो एक स्त्री और एक पुरुष। पद्म पुराण में कहा कि राधा के अंश के अंश है दुर्गा, कमला, ब्राह्मणी आदि। और राधा रानी के चरण से करोणों विष्णु पैदा होते हैं। …

नवरात्रि | नवरात्र

Image
नवरात्र एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ होता है 'नौ रातें'। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, शक्ति/देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। माता भगवती की आराधना का श्रेष्ठ समय नवरात्र होता है। नवरात्र वर्ष में चार बार आता है। वर्ष के चार नवरात्रों में चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ की शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक नौ दिन के होते …

ब्रह्माण्ड कहाँ से आया? इससे पहले ब्रह्माण्ड कैसा था?

Image
प्रायः लोगों के मन में एक प्रश्न रहता है कि ब्रह्माण्ड कहाँ से आया? कब से ब्रह्माण्ड का अस्तित्व है? अर्थात् जैसा की कहा जाता है की सनातन धर्म अनुसार भगवान ने संसार बनाया है, तो कब से इस ब्रह्माण्ड का अस्तित्व है, क्या यह ब्रह्माण्ड सनातन है? क्या इस ब्रह्माण्ड के पहले भी ब्रह्माण्ड का अस्तित्व था या यह ब्रह्माण्ड पहली बार बना…

ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति कैसे हुई? - वेद अनुसार

Image
इस ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति कैसे हुई, वेद अनुसार सृष्टि की रचना भगवान ने कैसे किया, और ब्रह्माण्ड के बनने का क्रम क्या है? यह प्रश्न प्रायः हिन्दू धर्म (सनातन धर्म) से पूछा जाता है। इसका उत्तर बड़ा सरल तथा वैज्ञानिक आधार पर भी है। 'हिन्दू धर्म अनुसार ब्रह्माण्ड कैसे बना' इस पर भौतिक वैज्ञानिक अगर शोध करे, तो वे शायद सिद्ध…

क्या एलियंस होते है? - वेद विज्ञान

Image
क्या एलियंस होते है? हिन्दू धर्म का एलियंस के बारे में क्या कहना है? जब लोग एलियंस की कल्पना करते हैं, तो वे आम तौर पर विज्ञान की कल्पना पर आधारित फिल्मों में जो देखते हैं उसके बारे में सोचते हैं। लेकिन, हम आपको हिंदू ग्रंथों में वर्णित सिद्धांतों के आधार पर, इस प्रश्न का उत्तर देंगे। हमारे पास एक पृथ्वी ग्रह और एक सौर मंडल है…

भगवान है या नहीं? क्या प्रमाण है भगवान के होने का?

Image
दुनिया में अनेक वादों का विवाद है। उनमें से एक है “क्या भगवान होते है? अगर हाँ तो क्या प्रमाण?" प्रायः कुछ लोग मानते है कि ईश्वर होते है और कुछ लोग कहते की नहीं होते हैं। नास्तिकों का कहना है कि "भगवान को हम लोगों ने बनाया है। जैसे गरीब के लिए अन्नदाता भगवान है, ऐसे ही जो लोग दुखी है उनको ऐसा लगता है की कोई इस दुःख क…

'राधा' नाम का अर्थ और 'राधा' नाम का महत्व - ब्रह्मवैवर्त पुराण अनुसार

Image
'राधा' नाम का अर्थ संस्कृत में राधा शब्द के अनेक अर्थ होते है। 'राध' धातु से 'राधा' शब्द बनता है। संस्कृत में जितने शब्द है वो धातु से बनते है। आराधना (उपासना) अर्थ में 'राध' धातु होती है उससे 'अ' प्रत्यय होकर दो अर्थ हो जाता है। पहला कर्म में 'अ' प्रत्यय होता है और दूसरा करण में…

श्री कृष्ण ने राधा से कैसे और कहाँ विवाह किया? - ब्रह्म वैवर्त पुराण अनुसार

Image
ब्रह्म वैवर्त पुराण अनुसार जब श्री महादेव जी ने माता पार्वती को राधा के जन्म के बाद, राधा जी के छाया का विवाह यशोदा के भाई रायाण के बारे में बताया। फिर कृष्ण के साथ श्री राधा का विवाह कैसे हुआ यह बताया। श्री कृष्ण का श्री राधा से विवाह कृष्णेन सह राधायाः पुण्ये वृन्दावने वने।
विवाहं कारयामास विधिना जगतां विधिः॥४३॥
- ब्रह्मवैवर्…