Featured post

उपनिषद् वेदान्त है या ब्रह्मसूत्र है? वेदान्त का अर्थ?

Image
वेदान्त का अर्थ क्या है? उपनिषद् को वेदांत कहते है, या ब्रह्मसूत्र को? वेदांत कहना इनमें से किसके लिए उचित होगा? क्योंकि कुछ लोग उपनिषदों को वेदांत कह रहे है और कुछ लोग ब्रह्मसूत्र को वेदांत कह रहे है। इस ब्रह्मसूत्र के लेखक बादरायण जी है - जो वेदव्यास, कृष्णद्वैपायन, पाराशर नंदन के नाम से भी जाने जाते है। जिस प्रकार बादरायण जी अनेक नामों से जाने जाते है, उसी प्रकार ब्रह्मसूत्र भी वेदान्त सूत्र, उत्तर-मीमांसा सूत्र, शारीरक सूत्र आदि अनेक नाम से जाने जाते है। तो किसके लिए वेदान्त कहना उचित होगा और क्यों? इस लेख में, हम इस विषय में विस्तार से जानेंगे। वेदान्त शब्द का अर्थ ‘वेदान्त’ शब्द “वेद + अन्त” से बना है। इसलिए ‘वेदान्त’ शब्द का शाब्दिक अर्थ है ‘वेदों का अन्त’। किन्तु, उपनिषद् और ब्रह्मसूत्र में से कौन वेदों का अन्त है? इसका निर्णय हो जाने के बाद, यह पता चलेगा कि किसे वेदान्त कहना उचित होगा। क्या उपनिषद् ‘वेदान्त’ है? जैसा की सर्वविदित है कि चार वेद है और हर एक वेद के चार भाग हैं - १. मन्त्र संहिता , २. ब्राह्मण , ३. आरण्यक और ४. उपनिषद् । चूँकि वेद के अंत में उपनि

एक अक्षौहिणी सेना में कितने पैदल, घोड़े, रथ और हाथी होते है?

Image
अक्षौहिणी प्राचीन भारत में सेना का एक माप हुआ करता था। महाभारत के युद्ध में कुल १८ अक्षौहिणी सेना लड़ी थी। जिसमें से कौरवों के पास ११ अक्षौहिणी सेना थी और पाण्डवों के पास ७ अक्षौहिणी सेना थी। लेकिन वास्तव में एक अक्षौहिणी सेना कितनी होती है? इसके लिए, हम महाभारत के प्रमाणों से जानने की कोशिश करेंगे कि एक अक्षौहिणी से…

राम जन्म भूमि का फैसला, इन श्लोकों और चौपाइयां का दिया गया प्रमाण

Image
सुप्रीम कोर्ट ने श्री राम जन्म भूमि मामले में 9 नवम्बर 2019 को फैसला सुनाया था, जिसमें Archaeological Survey of India के द्वारा प्राप्त मूर्तियाँ, खम्भे और अन्य प्रमाण भी दिए गए। उसमें पुराण, वाल्मीकि रामायण और रामचरितमानस के प्रमाण भी दिए गए। अतः वो सब प्रमाण हम आपको इस लेख में बतायेंगे। यदपि सुप्रीम कोट ने सब प्रमा…

कर्मकाण्ड

Image
वैदिक संस्कृति का कर्मकाण्ड प्रधान अंग है। यह मनुष्य की अनेकों भौतिक और आध्यात्मिक इच्छाओं को पूर्ण करता है। कई प्राचीन ऋषि-महर्षिय जो कर्मकाण्डी थे, वे शास्त्रों के अनुसार ही अपना जीवन व्यतीत किया करते थे और कर्मकाण्ड के द्वारा अपना और जगत का कल्याण किया करते थे। आपको बता दे कि सम्पूर्ण वैदिक धर्म (या कहें वेद) ती…

भक्तिकाण्ड / उपासनाकाण्ड

Image
वेदों में कई मार्ग हैं जिनके माध्यम से मनुष्य अपने परम् लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। मूलतः वेद तीन काण्डों में विभक्त है अर्थात् तीन मार्ग है अपने परम् लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए - १. कर्मकाण्ड २. ज्ञानकाण्ड ३. भक्ति / उपासनाकाण्ड। इस लेख में, हम भक्ति / उपासनाकाण्ड के बारे में जानेंगे, की भक्तिकांड क्या है, इ…

ज्ञानकाण्ड

Image
वेदों में कई मार्ग हैं जिनके माध्यम से मनुष्य अपने परम् लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। मूलतः वेद तीन काण्डों में विभक्त है अर्थात् तीन मार्ग है - १. कर्मकाण्ड २. ज्ञानकाण्ड ३. भक्ति / उपासनाकाण्ड। इस लेख में, हम ज्ञानकांड / ज्ञान मार्ग के बारे में जानेंगे, की ज्ञानकाण्ड क्या है, इसके कितने भाग हैं और कितने ग्रंथ …

जगन्नाथ मंदिर में रखा है भगवान कृष्ण का दिल? - महाभारत और भागवत पुराण अनुसार

Image
श्री जगन्नाथ पुरी के मंदिर में आज भी एक मूर्ति में सुरक्षित है श्रीकृष्ण का दिल! ऐसे बहुत से लेख आज-कल लोग प्रकाशिक कर रहे है। और कुछ लोगों ने तो श्रीकृष्ण के दिल की तुलना Marvel Cinematic Universe के Iron Man के Arc Reactor से कर दी। आश्रय तो यह है की बहुत से लोग इस पर विश्वास करते है। बिना यह जाने की श्री कृष्ण की …

गीता को गीता क्यों कहते है?

Image
गीता का अर्थ क्या है? इसे कुछ लोग गीतोपनिषद् क्यों कहते है? क्या गीतोपनिषद् कहना सही है? श्रीमद्भगवद्गीता को गीता क्यों कहते है? प्रश्न थोड़े अजीब है, लेकिन कई लोग इन प्रश्नों का उत्तर जानना चाहते है। इसलिए हम इन प्रश्नों पर एक-एक करके पर विस्तार से चर्चा करेंगे। गीता का शाब्दिक अर्थ क्या है? गीता शब्द का कोई अर्थ नह…

श्रीमद्भगवद्गीता - क्यों, क्या, किसने, महत्त्व?

Image
गीता क्यों कहा गया? क्या अर्जुन वाकई में अज्ञानी था? गीता किसने लिखी? गीता का महत्व? गीता में कितने अध्याय है? क्या गीता को पढ़ने से मन में संन्यास की भावना होती है? इत्यादि कई प्रश्न है जिन्हें जानना आवश्यक है। इस लेख में हम श्रीमद्भगवद्गीता के विषय में जानेंगे, उसके माहात्म्य के विषय में जानेंगे। क्यों गीता कही गयी? …