पति (शंकर जी) के अपमान से दुःखी होकर सती का योगाग्नि से जल जाना।

सती का योगाग्नि से जल जाना

सती से पति शिवजी का अपमान सहा नहीं गया। ब वे सारी सभा को हठपूर्वक डाँटकर क्रोधभरे वचन बोलीं - हे सभासदों और सब मुनीश्वरो! सुनो। जिन लोगों ने यहाँ शिवजी की निंदा की या सुनी है, उन सबको उसका फल तुरंत ही मिलेगा और मेरे पिता दक्ष भी भलीभाँति पछताएँगे। जहाँ संत, शिवजी और लक्ष्मीपति श्री विष्णु भगवान की निंदा सुनी जाए, वहाँ ऐसी मर्यादा है कि यदि अपना वश चले तो उस निंदा करने वाले की जीभ काट लें और नहीं तो कान मूँदकर वहाँ से भाग जाएँ। चन्द्रमा को ललाट पर धारण करने वाले वृषकेतु शिवजी को हृदय में धारण करके मैं इस शरीर को तुरंत ही त्याग दूँगी। ऐसा कहकर सतीजी ने योगाग्नि में अपना शरीर भस्म कर डाला। सारी यज्ञशाला में हाहाकार मच गया।

सती का मरण सुन शिवजी ने

सती का मरण सुनकर शिवजी के गण यज्ञ विध्वंस करने लगे। यज्ञ विध्वंस होते देखकर मुनीश्वर भृगुजी ने उसकी रक्षा की। ये सब समाचार शिवजी को मिले, तब उन्होंने क्रोध करके वीरभद्र को भेजा। उन्होंने वहाँ जाकर यज्ञ विध्वंस कर डाला और सब देवताओं को यथोचित फल (दंड) दिया।

सती का जल जाना

सती ने मरते समय भगवान हरि से वर माँगा

सती ने मरते समय भगवान हरि से यह वर माँगा कि मेरा जन्म-जन्म में शिवजी के चरणों में अनुराग रहे। इसी कारण उन्होंने हिमाचल के घर जाकर पार्वती के शरीर से जन्म लिया।

अवश्य पढ़ें देवताओं का शिव से प्रार्थना, शिव का सिंगर व बारात - शिव विवाह कथा और वास्तविक कारण - माँ सती राम को देखकर भ्रमित होना व झूठ बोलना।

You Might Also Like

क्यों तुलसीदास जी ने लिखा ढोल गवाँर सूद्र पसु नारी? क्या सही अर्थ है?

कर्म क्या है? कर्म की परिभाषा? - गीता के अनुसार

वेद के रचयिता कौन हैं?

धर्म क्या है? धर्म के प्रकार? हमारा क्या धर्म है?

प्रमाण क्या है और कितने प्रकार के होते हैं?